Breaking News
Home / अपराध / सामूहिक दुष्कर्म का आरोप, महिला धरने पर बैठी जिलेंBJP विधायक के बेटे पर

सामूहिक दुष्कर्म का आरोप, महिला धरने पर बैठी जिलेंBJP विधायक के बेटे पर

शाहजहांपुर। भारतीय जनता पार्टी के विधायक के बेटे पर एक महिला ने सनसनीखेज आरोप लगाया है। सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाकर यह महिला क्लेक्ट्रेट में धरना पर बैठी है। कुछ घंटे बाद ही अधिकारियों ने जल्द कार्रवाई का आश्वासन देकर धरना खत्म कराया। मामले की जांच लंबे समय से सीबीसीआईडी कर रही है। निगोही थाना क्षेत्र के एक गांव की युवती ने 11 जुलाई 2012 में विधायक रोशनलाल वर्मा और उनके पुत्र के खिलाफ अपहरण कर दुष्कर्म करने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिस समय उनपर मुकदमा हुआ था, वह बसपा से विधायक थे। सूबे में सपा की सरकार सत्तारूढ़ थी। अब भाजपा विधायक हैं। मामला सीधे विधायक से जुड़ा होने के कारण विवेचना बरेली की सीबीसीआइडी को सौंपी गई, लेकिन थोड़े समय बाद जांच ठंडे बस्ते में चली गई। पीडि़ता का आरोप है कि उसने एवं मामले के सभी गवाहों ने मुकदमे से जुड़े साक्ष्य तत्कालीन विवेचना अधिकारी को सौंप दिए थे। राजनीतिक दबाव के चलते विधायक की गिरफ्तारी नहीं की गई। पुलिस की ओर से उस पर समझौता के लिए दबाव बनाया गया। इतना ही नहीं, कई बार उसे एवं उसके परिवार वालों को जान से मारने की धमकी भी दी गई। छह वर्ष बाद भी न्यान मिलने पर वह कल दोपहर परिवार के साथ कलक्ट्रेट में धरने पर बैठ गई। कुछ घंटे बाद अधिकारियों ने जल्द कार्रवाई का भरोसा दिलाकर धरना खत्म करा दिया। पीडि़ता ने गिरफ्तारी नहीं होने पर 11 मई को कलक्ट्रेट में आत्मदाह करने की चेतावनी दी है। उसका कहना है कि भाजपा विधायक रोशन लाल वर्मा के बेटे ने उसका अपहरण करके साथियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया है। वह पिछले कई वर्षों से इंसाफ की गुहार लगा रही है, लेकिन आरोपियों के खिलाफ पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही। पीडि़ता का आरोप है कि सात वर्ष पहले (वर्ष 2011) में उसका अपहरण करके सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। उसने थाना में जाकर केस दर्ज कराया था। इसके बाद इस केस से बचने के लिए विधायक ने अपने छोटे बेटे विनोद वर्मा से 2012 में उसकी शादी करा दी थी। एक वर्ष बाद दोनों अलग हो गए। उन दोनों की एक पांच वर्ष की बेटी भी है। महिला का आरोप है कि विधायक सत्ता के दबाव में सीबीसीआईडी की जांच को आगे नहीं बढऩे दे रहे हैं। महिला पहले लखनऊ में धरने पर बैठी, लेकिन आश्वासन मिलने पर वो शाहजहांपुर वापस आ गई। आरोप है कि एक सपा नेता के इशारे पर डीएम कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गई। उसका कहना है कि जब तक भाजपा विधायक और उनके बेटे के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हो जाती, तब तक धरने पर बैठी रहेगी। उसने चेतावनी दी है कि यदि उसे न्याय नहीं मिला तो वो वहीं आत्मदाह कर लेगी। इस प्रकरण में एक सपा नेता का नाम सामने आ रहा है। सपा जिलाध्यक्ष भी महिला के धरने को समर्थन दे रहे हैं।

About अभय कुमार

Check Also

BSF जवान ने साथी जवान को मारी गोली…

अनिल कुमार (ब्यूरो चीफ मण्डल गोरखपुर) *************************************** वो दोनों एक दूसरे के लिए जान देते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *